रंगवाली होली!!

होली हिन्दुओं का धार्मिक त्यौहार है जिसे विश्वभर में हिन्दु धर्म के लोगों द्वारा मनाया जाता है। दीपावली के बाद यह हिन्दुओं का दूसरा मुख्य त्यौहार है। होली को रंगों के त्यौहार के नाम से भी जाना जाता है।

Loading...

होली का त्यौहार भगवान श्री कृष्ण को अत्यधिक प्रिय था। जिन स्थानों पर श्री कृष्ण ने अपने बालपन में लीलाएँ और क्रीडाएँ की थीं उन स्थानों को ब्रज के नाम से जाना जाता है। इसीलिये ब्रज की होली की बात ही निराली है। ब्रज की होली की छटा का आनन्द लेने के लिये दूर-दराज प्रदेशों से लोग मथुरा, वृन्दावन, गोवर्धन, गोकुल, नन्दगाँव और बरसाना में आते हैं। बरसाना की लट्ठमार होली तो दुनिया भर में निराली और विख्यात है।

Why do we celebrate holi

ज्यादातर जगहों पर होली दो दिन मनायी जाती है। होली के पहले दिन को होलिका दहन, जलानेवाली होली और छोटी होली के नाम से जाना जाता है और इस दिन लोग होलिका की पूजा-अर्चना कर उसे आग में भस्म कर देते हैं। दक्षिण भारत में होलिका दहन को काम-दहनम् के नाम से मनाया जाता है। होली के दूसरे दिन को रंगवाली होली के नाम से जाना जाता है। सूखे गुलाल और पानी के रंगों का उत्सव दूसरे दिन ही मनाया जाता है। मौज-मस्ती के दिन की वजह से दूसरे दिन को होली का मुख्य दिन माना जाता है। शिक्षण संस्थानों, विद्यालयों और सरकारी दफ्तरों में होली का अवकाश दूसरे दिन ही रखा जाता है। रंगवाली होली को धुलण्डी के नाम से भी जाना जाता है।

होली के पहले दिन, सूर्यास्त के पश्चात, होलिका की पूजा कर उसे जलाया जाता है। होलिका पूजा का मुहूर्त काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। ज्यादातर लोग होलिका-दहन मुहूर्त देख कर ही करते हैं। होली का मुख्य दिन होलिका दहन के अगले दिन होता है और रंगों का उपयोग मुख्यतः इसी दिन किया जाता है। सूखे रंगों को लोग ज्यादा पसन्द करते हैं। सूखे रंगों को गुलाल के नाम से जाना जाता है। कुछ लोगों का मानना है कि पानी के रंगों से ही होली का असली आनन्द आता है और पानी के रंगों से ही होली सम्पूर्ण होती है।

Source: drikpanchang

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Next post:

Previous post:

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap