सबसे नन्हा मसाला राई, इतना क्यों है खास

सबसे नन्हा मसाला राई, इतना क्यों है खास?

 

-राई का प्रमुख गुण पाचक होता है।
-पेट के कीड़े इसका पानी पीने से मर जाते हैं।
-इसकी पुल्टिस बना कर दर्द वाली जगह पर सेंक किया जाए तो तुरंत राहत मिलती है।
राई के लेप से सूजन कम होती है।
-गर्म पानी में राई डालने से राई फूल जाती है।

Loading...

उसके गुण पानी में पहुंच जाते हैं। इस –पानी को गुनगुना सहने योग्य कर किसी टब में कमर तक भर कर बैठा जाए तो सभी -प्रकार के यौन रोग प्रदर, प्रमेह आदि में बेहतर सुधार आता है।
-इसे पीस कर शहद में मिलाकर सूंघने से जुकाम में आराम मिलता है।
-मिर्गी-मूर्च्छा में मात्र राई पीस कर सूंघाने से फायदा होता है।
-राई के तेल में बारीक नमक मिलाकर मंजन करने से पायरिया रोग का नाश होता है।
-राई के दानों से नजर उतारी जाती है। अगर हम इस अंधविश्वास को ना भी मानें तो भी -राई के दाने पास में रखने से कई बीकारियों से बचा जा सकता है।
चेतावनी : राई के अधिक प्रयोग से उल्टी हो सकती है अत: राई का सीमित मात्रा में प्रयोग करना ही स्वास्थ्य के लिए सही होता है।

Source: samaybhaskar

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!
सबसे नन्हा मसाला राई, इतना क्यों है खास?

Next post:

Previous post:

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap