होंठ गुलाबी बनाने का आयुर्वेदिक इलाज

%image_alt%

यदि आपके होंठ फट चुके हैं तो उन्हें ठीक करने पर ध्यान दें। जैतून का तेल और वैसलीन मिलाकर दिन में तीन या चार बार फटे होंठों पर लगाएँ। तीन-चार दिन नियमित उपचार करने पर आपके होंठों की दरारें भरने लगेंगी या भर जाएँगी।

Loading...

दरारें होने पर थोड़ा-सा शहद लेकर होंठों पर उँगली से धीरे-धीरे मलें। कुछ ही दिनों के प्रयास से आपके होंठ पहले की तरह चमकदार और मुलायम हो जाएँगे। दो बड़े चम्मच  बटर, आधा छोटा चम्मच मधु वैक्स लें। उबलते पानी पर एक बर्तन में वैक्स डालकर पिघला लें। इसमें  बटर मिलाएँ। अब इस मिश्रण को ठंडा होने दें। इसे लिप ब्रश की मदद से होंठों पर लगाएँ। इससे होंठों का सौंदर्य बना रहेगा। पपड़ी का जमा रहना होंठों का रोग ही बन गया है तो आप इससे भी निजात पा सकती हैं। इसके लिए एक छोटा चम्मच मेहँदी की जड़, करीब 60 मि.ग्रा. बादाम का तेल, 15 ग्राम बीज वैक्स लें।

मेहँदी की जड़ को कूट लें और दस दिन तक इसे बादाम के तेल में भिगोएँ। दस दिन बाद तेल को छान लें। मोम को पहली विधि के अनुसार ही गरम पानी पर रखकर पिघला लें। अच्छी तरह से फेंटें। इसे लिप ब्रश से होंठों पर लगाना शुरू कर दें।

Source: sehatnama

Loading...

कृपया सभी इस पोस्ट को फेसबुक और व्हाट्सप्प पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें …..

Next post:

Previous post:

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap