बीमारियों में लाभदायक मेथी

मेथी के पत्तों का साग, मेथी की सब्जी, रस व सूप रक्तवात, गठिया, दृष्टिदोष्ज्ञ और वातजन्य रोगशामक है। सूखी मेथी के बीजों की अपेक्षा मेथी की सब्जी कुछ ठंडी, गर्भवती महिलाओ, वायुदोष के रोगियों के लिए अत्यंत हितकारी है। एक रिसर्च के अनुसार मेथी की सब्जी या मेथीदाने के सेवन से वात रोगों का शमन होता है।
Fenugreek-benefits
मेथी का काढा बनाकर उसमें दो चम्मच शहद मिलाकर पीने से खांसी में आराम मिलता है।
पसलियों में दर्द होने पर 100 ग्राम मेथीदाना हल्का सा भून लें। फिर इसका बारीक चूर्ण बनाकर उसमें चूर्ण का चौथाई भाग काला नमक मिलाकर रख लें। इस चूर्ण की 5 ग्राम की मात्रा सुबह शाम गुनगुने पानी के साथ सेवन करें। चाहे कोई भी असहनीय दर्द हो, 15 दिनों में खत्म हो जाएगा।
प्रतिदिन मेथी की सब्जी का सेवन करने से वायु कफ और बवासीर में लाभ होता है।
रोज मेथी की हरी पत्तियों का साग बनाकर खाने या उसका रस निकालकर पीने या सूखी मेथी का सेवन करने से 80 प्रकार के वातजन्य दर्द में लाभ होता है।
सुबह 3-4 ग्राम मेथी चूर्ण का सेवन करने से वृद्धावस्थ में घुटनों के दर्द से बचा जा सकता है। मेथीदाने का काढा बनाकर नियमित 2-3 महीने तक पीने से घुटनों और टखनों का जलनयुक्त दर्द ठी हो जाता है।
 Source: shiromaninews
कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post:

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap