बच्चों के खाने पर पैरेंट्स का ध्यान देना जरूरी

परिवार का प्यार भरा खानपान में हस्तक्षेप और जीवनशैली का परामर्श बच्चे को बेहतर शारीरिक गतिविधियों और संतुलित आहार के लिए प्रेरित कर सकता है।

Loading...

एक नए रिसर्च में इस बात का खुलासा हुआ है कि फिजिकली एक्टिविटी और आहार परामर्श के प्रभावों को जानने के लिए रिसर्चर ने छह-आठ साल के 500 बच्चों का दो साल तक आंकलन किया।

mother-carring-wefornewshindi

यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्टर्न फिनलैंड से अन्ना वितिसालो का कहना है, “रिसर्च में जिन परिवार के बच्चों ने जीवनशैली परामर्श गतिविधि में भाग लिया था, वह इस दौरान ज्यादा एक्टिव रहे, उन्होंने भरपूर मात्रा में सब्जियों और पोषक तत्वों का सेवन किया। हालांकि इस दौरान बच्चों का माहौल काफी आजादी से भरा रहा।”

उच्च प्रभावों की गणना के लिए कुछ सत्रों में बच्चों के अभिभवाकों को भी शामिल किया गया था

इस रिसर्च की को राइटर टीमो लक्का का कहना है कि, “अभिभावकों की पर्सनल भागीदारी बच्चे के लाइफस्टाइल का हिस्सा होना चाहिए। इससे बच्चों में कई गैर-संचारी (नॉन म्यूनिकेबल) रोग होने के चांसेज कम होते है।

Source: wefornewshindi

Loading...

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Next post:

Previous post:

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap