S.T.D है या U.T.I. कैसे पता करें

पेशाब के दौरान जलन का एहसास, बार बार पेशाब आना, धब्बा लगना या किसी प्रकार का डिस्चार्ज होना, ये सभी यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (U.T.I) के लक्षण हैं। ये सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज़ (S.T.D) के भी लक्षण हो सकते हैं। क्योंकि ये शुरूआती लक्षण दोनों में से किसी के भी हो सकते हैं, हम कैसे पता लगाएं कि हमें दोनों में से कौनसी तकलीफ है?

Loading...

S.T.D. Hai Ya U.T.I. Kaise Pata Kare in Hindi

यू.टी.आई (यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन) के कारण Causes of U.T.I

हमारे मल में मौजूद बैक्टीरिया, जिसे इ-कोलाई कहते हैं, से इन्फेक्शन होता है। ये बैक्टीरिया मल द्वार से निकल कर हमारे जननांग(जेनाईटल) से होते हुए यूरिनरी ब्लैडर में जाते हैं और उससे इन्फेक्शन होता है।

लक्षण

  • बार बार पेशाब आना
  • पेशाब करने में तकलीफ महसूस होना
  • तेज़ बुखार
  • पेशाब में खून आना
  • उलटी होना और अत्यधिक थकान होना

अगर ये लक्षण सेक्सुअल गतिविधि के उपरान्त महसूस होते हैं तो ज़रूरी नहीं कि यह एस.टी.डी. हो, यह महज़ यू.टी.आई. हो सकता है।

एस.टी.डी.(सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज़) के कारण Causes of S.T.D

सेक्सुअल गतिविधि द्वारा हुए इन्फेक्शन से एस.टी.डी. होता है। हालांकि एस.टी.डी. और यू.टी.आई. के कारण अलग अलग हैं, यू.टी.आई. के लक्षण एस.टी.डी. के लक्षण से पहले नज़र आते हैं।

लक्षण

  • पेशाब करने में तकलीफ
  • सेक्सुअल एक्ट के दौरान दर्द
  • जननांगों से डिस्चार्ज
  • जननांग में सूजन या जलन

यू.टी.आई. से निजात पाने के लिए प्रभावशाली घरेलू नुस्खे हैं, परन्तु ज्यादा तकलीफ होने पर डॉक्टर की सलाह अनिवार्य है। अगर आप अक्सर यू.टी.आई. से ग्रसित रहते हैं, तो डॉक्टर की सलाह से सभी ज़रूरी टेस्ट करवा कर पता करें कि कहीं यह एस.टी.डी. तो नहीं। शुरूआती दौर में की गई जांच से एस.टी.डी. का सही इलाज संभव है।

Source: healthindian

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post:

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap