रामवाण से कम नहीं है गौमूत्र, बड़े-बड़े रोग करे दूर

हिंदू धर्म और शास्त्रों में गांय को माता का दर्जा दिया गया है इसलिए इसके गोबर और मूत्र को भी पवित्र माना जाता है। आयुर्वेद में गौमूत्र के प्रयोग रामवाण अौषधी के रूप में किया जाता है।इससे दवाइयां भी तैयार की जाती हैं। गौमूत्र के नियमित सेवन से बडे़-बडे़ रोग तक दूर हो जाते हैं। गाय का मूत्र विष नाशक, जीवाणु नाशक, शक्ति से भरा और जल्द ही पचने वाला होता है। गौमूत्र से लगभग 108 रोग ठीक होते हैं। गौमूत्र के प्रयोग से बडे़-बडे़ रोग जैसे, दिल की बीमारी, मधुमेह, कैंसर, टीबी, मिर्गी, एड्स और माइग्रेन आदि को भी ठीक किया जा सकता है। तो अब गाय से प्राप्त दूध, दही, मठ्ठा आदि सेवन करने के साथ साथ गौमूत्र का भी सेवन करके खतरनाक बिमारियों को दूर भगाएं।

Loading...
1. किस गाय का गौमूत्र करें प्रयोगबूढ़ी, अस्वस्थ व गाभिन गाय का मूत्र नहीं लेना चाहिए। गौमूत्र को कांच या मिट्टी के बर्तन में लेकर साफ सूती कपड़े के आठ तहों से छानकर चौथाई कप खाली पेट पीना चाहिए।

2. खून की कमी 

अगर गौमूत्र, त्रिफला और गाय का दूध एक साथ मिक्स कर के सेवन किया जाए तो शरीर में एनीमिया की कमी दूर होती है। साथ ही खून भी साफ होता है।

3. कीटाणु नाशक  

गौमूत्र शरीर में घुसे कई किस्‍म के कीटाणुओं का खात्‍मा करता है। आयुर्वेद अनुसार शरीर में तीनों दोषों की गड़बड़ी की वजह से बीमारियां फैलती हैं, लेकिन गौमूत्र पीने से बीमारियां दूर हो जाती हैं।

4.लिवर बने मजबूत

गौमूत्र पीने से लिवर मजबूती से काम करता है जिससे खून शुद्ध बनता है और बीमारियां दूर होती हैं।

5. दिमाग से मिटाए तनाव 

दिमागी टेंशन की वजह से नर्वस सिस्टम पर बुरा असर पड़ता है। लेकिन गौमूत्र पीने से दिमाग और दिल दोनों को ही ताकत मिलती है और उन्हें किसी भी किस्म की कोई बीमारी नहीं होती।

6. जोड़ों का दर्द दूर करे 

अगर दर्द वाली जगह पर गौमूत्र से सेकाई की जाए तो आराम मिलता है। सर्दियों में आप गौमूत्र को सोंठ के साथ पिए तो लाभ मिलेगा।

7. पेट की गैस दूर करे

सुबह अगर आधे कप पानी में गौमूत्र के साथ नमक और नींबू का रस मिला कर पिया जाए तो गैस नहीं बनती।

8. मोटापा करे कम

एक गिलास पानी में चार बूंद गौमूत्र के साथ दो चम्मच शहद और 1 चम्मच नींबू का रस मिला कर रोजाना पीने से लाभ मिलता है।

9. इम्युनिटी बढ़ाए

इसे नियमित पीने से शरीर की इम्युनिटी बढ़ती है और काई भी बीमारी जल्दी नहीं लगती।

10. कीटनाशक के रूप में 

गौमुत्र कीटनाशक के रूप में भी उपयोगी है। देसी गाय के गौमूत्र को पानी में मिला फसलों पर कीटनाशक के रूप में प्रयोग किया जा सकता है।

Source: punjabkesari

कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post:

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap