सावधान, बल्ब नहीं मौत है आपके सिर पर

%image_alt%
हाल ही में बर्लिन के शोधकर्ताओं द्वारा भी यह दावा किया गया है कि इस तरह के एनर्जी सेविंग बल्ब या लाइट अत्यधि‍क हानिकारक हैं। इसमें फेनॉल, नेफ्थेलेन के अलावा अन्य खतरनाक और कैंसरजनित तत्व मौजूद होते हैं जो लंबे समय तक प्रयोग करने पर जानलेवा साबित हो सकते हैं। इसमें फेनॉल की उपस्थि‍ति श्वसन तंत्र और हृदय की कार्यप्रणाली पर विपरीत और खतरनाक प्रभाव डालती है।
इजराइल के हाइफा विश्वविद्यालय में किए गए एक शोध के अनुसार, एनर्जी सेविंग बल्ब के प्रभाव से महिलाओं में स्तन कैंसर की संभावना और प्रतिशत में वृद्धि‍ दर्ज की गई। इसका प्रमुख कारण रेडि‍एशन के प्रभाव से मेलाटोनिन हार्मोन के निर्माण पर नकारात्मक प्रभाव पड़ना और उनका असंतुलित होना है।
एनर्जी सेविंग कर बिजली बचाने वाले यह बल्ब माइग्रेन और अन्य मानसिक समस्याओं के साथ-साथ त्वचा संबंधी समस्याओं के लिए भी बेहद खतरनाक हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, इस तरह के बल्ब या लैंप विद्युत धुंए का निर्माण करते हैं, जो खास तौर से खुले और हवादार कमरों में भी हमारे मस्तिष्क पर प्रभाव डालते हैं।
बल्ब में अंदर की ओर पाया जाने वाला पारा किसी भी प्राणी के लिए हानि‍कारक हो सकता है। इसके लिए बचाव और सतर्कता भी बेहद जरूरी है। खास तौर से बल्ब के टूट जाने की स्थि‍ति में आपको इससे सावधान रहना चाहिए। जानिए कुछ बातें जो बल्ब टूटने पर ध्यान रखना जरूरी है –
1 बल्ब टूटने की स्थि‍ति में कमरे के खि‍ड़की और दरवाजे खुले रखें।
2 जिस स्थान पर बल्ब टूटा हो, उस स्थान को किसी कपड़े से अच्छी तरह से साफ करें इसके बाद उसे किसी प्लास्ट‍िक थैली में डालकर फेंके।
3 किसी चिपकने वाले टेप की सहायता से कांच के टूटे और बिखरे हुए टुकड़ों को समेटें और प्लास्ट‍िग थैली में डालकर फेंके।
4 इसे फेंकते समय किसी ऐसे स्थान का चुनाव करें, जहां यह किसी की पहुंच से दूर रहे और किसी प्रकार का नुकसान न पहुंचा सके।
यूरोपियन संघ के सभी सदस्य देशों दवारा एनर्जी सेविंग के लिए प्रयोग होने वाले  100 और 75 वॉट के इस प्रकाश बल्बों पर रोक लगा दी गई है। इसके अलावा 60 वॉट के बल्ब को भी बंद कर दिया गया है। आने वाले समय में इस तरह के अन्य बल्बों पर रोक लगाने की कारवाई भी हो सकती है।
Source: ndnews24x7
कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!
 

Loading...

Next post:

Previous post:

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap