मोबाइल फोन बन सकता है पुरुषों में नपुंसकता का कारण….?

मोबाइल,फोन,बन,सकता,है,पुरुषों,में,नपुंसकता,का,कारण
मर्द (Male) होने के क्या मायने हैं? अलग-अलग वक्त पर इसके अलग-अलग जवाब हो सकते है जैसे की इसकी कुछ अच्छाई और कुछ बुराई आज के दौर में मोबाइल इतना जरुरी है कि हम उसके बिना अपने जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते है । शादी , पार्टी , बेडरूम से लेकर बाथरूम, ऑफिस, इंडोर, आउटडोर हर जगह हर समय मोबाइल हमारे साथ ही रहता है । लेकिन क्या आपको मालूम है कि यह मोबाइल पुरूषों के लिए बड़ा खतरा भी बन गया है ? यह बात की सेल फोन का इस्तेमाल पुरुषों में बांझपन पैदा कर सकता है हालांकि हाल में हुए कुछ शोधों के आधार पर पुरुष बांझपन और सेल फोन के बीच संबंध को लेकर कई रोचक बातें सामने आई हैं। तो चलिये जानें की क्या वाकई मोबाइल फोन बन सकता है पुरुषों में नपुंसकता का कारण…. ? मोबाइल को लेकर पहले भी कई प्रयोग किए जा चुके हैं। इसी तरह जो लोग मोबाइल को शर्ट की जेब में रखते हैं उन्हें दिल की बीमारी होने का खतरा बना रहता है। जो लोग रात को सोते समय मोबाइल सिर के पास रख कर सोते हैं उन्हें दीमागी प्राब्लम होने का खतरा रहता है। एक एक्सपेरिमेंट के अनुसार पाया गया कि जेब में मोबाइल फोन रखने से शुक्राणुओं की संख्या और उनकी गति प्रभावित होती है। एनवायरमेंट इंटरनेशनल जर्नल में प्रकाशित हुए इस अध्ययन में कहा गया कि विद्युतचुंबकीय (Electromagnetic) विकिरण को शुक्राणुओं की संख्या कम होने के लिए उत्तरदायी माना जाना चाहिए। पुरूषों को अपने मोबाइल इस्तमाल कम करना चाहिए और इसे 2 घंटे से ज़्यादा समय तक अपने पास नहीं रखना चाहिए। हालांकि शोधकर्ता मानते हैं कि इस ओर कारणों को पुख्ता करने के लिए अभी और अधिक शोध करने की जरूरत है। इस रिपोर्ट को हाल ही सेंट्रल यूरोपियन जर्नल ऑफ यूरोलॉजी द्वारा जारी किया गया है ! सभी प्रतिभागियों से उनके मोबाइल फोन हैबिट को लेकर पांच सवाल पूछे गए। इसके अलावा उनके फोन पर बात करने के घंटों और फोन को अपने पास रखने के घंटों के बारे में भी जानकारी ली गई ! प्रतिभागियों से पूछा गया कि वे कितने समय तक फोन को अपने हाथ में रखते हैं ! जबकि कितने समय तक फोन को पैंट की पॉकेट या अपने आस-पास रखते हैं !
Source: pagalbabu
कृपया इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने परिवार और मित्रों  के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें!

Loading...

Next post:

Previous post:

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap