समय से पहले हड्डियों की जांच बचा सकती है फ्रैक्चर से!

आगे पढने के लिए next बटन पर क्लिक करें

Loading...

समय से पहले हड्डियों की जांच बचा सकती है फ्रैक्चर से!

महिलाओं में हड्डियों की कमजोरी का यदि 30 साल की उम्र से पहले ही पता लगा लिया जाए तो फ्रैक्चर की समस्या से बचा जा सकता है. ये हम नहीं कह रहे बल्कि एक रिसर्च में बात सामने आई है.

क्‍या कहती है रिसर्च-

रिसर्च के मुताबिक, मीनोपोज के दौरान या 30 उम्र तक हड्डियों की कमजोरी सामने आ जाए तो फ्रैक्‍चर से महिलाओं को बचाया जा सकता है. बोन फ्रैजिलिटी (हड्डियों की कमजोरी) एक गंभीर स्थिति है, जो महिलाओं को बढ़ती उम्र के साथ प्रभावित करती है. इसके कारण हड्डियों की डेन्सिटी कम हो जाती है.

बोन फ्रैजिलिटी रोग-

फिलहाल में इस रोग की पहचान 65 साल के आसपास की जाती है और तब तक शरीर हड्डियों की डेन्सिटी और ताकत खो चुका होता है.अमेरिका की मिशिगन यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर कार्ल जेप्सन ने बताया कि हड्डियों की कमजोरी को एक गंभीर रोग माना गया है.

Loading...

आगे पढने के लिए next बटन पर क्लिक करें

Next post:

Previous post:

x
Please "like" us: