इन 5 घरेलू तरीके से करें जुड़वाँ गर्भावस्था की जाँच

आगे पढने के लिए next बटन पर क्लिक करें

Loading...

Sharing is caring!

इन 5 घरेलू तरीके से करें जुड़वाँ गर्भावस्था की जाँच

इन 5 घरेलू तरीके से करें जुड़वाँ गर्भावस्था की जाँच

प्रेग्नेंट वुमन के एक ही प्रेगनेंसी के दौरान पैदा होने वाले दो बच्चों को जुड़वा कहा जाता है। आमतौर पर, जुड़वा या तो एक जैसे हो सकते हैं या फिर अलग-अलग प्रकृति के भी हो सकते हैं क्योंकि वे दो अलग अलग अंडो में दो अलग-अलग शुक्राणुओं द्वारा निषेचित (फर्टिलाइजेशन) होते हैं।

लेकिन, शुरूआती तौर पर इस बात का पता लगा पाना बहुत ही मुश्किल है कि गर्भ में पल रहा शिशु जुड़वाँ है या नहीं। क्योंकि, ज्यादातर लोगों को इसकी जानकारी अल्ट्रासाउंड के दौरान मिलती है। लेकिन, आज हम अपने आर्टिकल के जरिए यह बताने जा रहें कि कुछ चीजों पर नज़र रख कर आप ट्विन्स प्रेगनेंसी का पता लगा सकते हैं। जिनमें निम्न शामिल हैं-मॉर्निग सिकनेस

जुड़वा बच्चों के साथ गर्भवती महिला के प्रारंभिक लक्षण में मॉर्निग सिकनेस बहुत ज्यादा होती है। पचास प्रतिशत से अधिक महिलाएं अपनी गर्भावस्था के प्रारंभिक चरण में ही मतली और जी मिचलाना का अनुभव शुरू कर देती हैं। महिला जिनके जुड़वा बच्चे होने वाले है अन्य गर्भवती महिलाओं की तुलना में मॉर्निग सिक्नेस का अनुभव अधिक करती है।

तेज़ी से वजन का बढ़ना

जुड़वां गर्भावस्था में वजन सामान्य गर्भावस्था की तुलना में अधिक होता है क्योंकि आपके दो बच्चे, दो प्लासन्टा और अधिक एमनियोटिक द्रव के साथ होते है। एक औसत गर्भावस्था में सामान्य वजन 25 पाउंड होता है जबकि जुड़वां गर्भावस्था में यह 30 से 35 पाउंड के बीच हो सकता हैं।

Loading...

Spread the love
  •  
  • 33
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
आगे पढने के लिए next बटन पर क्लिक करें

Next post:

Previous post:

x
Please "like" us: