हर साल 1 करोड़ महिलाएं घरवालों के डर से चुपचाप करा लेती हैं गर्भपात

आगे पढने के लिए next बटन पर क्लिक करें

Loading...

Sharing is caring!

img

साल 2008 में आरती चौहान (बदला हुआ नाम) को पता चला कि मिफेप्रिस्टॉन और मिसोप्रोस्टॉल नाम की दो गोलियों से गर्भपात हो सकता है. आरती का बेटा जब एक साल का था जब उसने गर्भपात कराने की सोची.उनकी 12 वर्षीया एक बेटी, नौ वर्षीय बेटा और एक छह साल की बच्ची है.

चौहान (28) राजस्थान के सिरोही जिले के एक मजदूर की पत्नी है और उन्हें इतनी जल्दी एक और बच्चा नहीं चाहिए. वह कहती हैं, “एक पड़ोसी ने मुझे इस गोली के बारे में बताया. मैंने यह गोली पास के एक मेडिकल स्टोर से 500 रुपये में खरीद ली और 10 दिन में मेरा गर्भपात हो गया. यह आसान था. सर्जिकल गर्भपात की तुलना में यह बहुत सस्ता है.”

Loading...

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
आगे पढने के लिए next बटन पर क्लिक करें

Next post:

Previous post:

x
Please "like" us: